Pages

Friday, April 25, 2014

ஶிவம் 3761_3800




प्रजापालाय नमःப்ரஜா பாலாய நம​:
प्रजाबीजायப்ரஜா பீ³ஜாய
प्रजनेशायப்ரஜனேஶாய
प्रजानां परहेतवेப்ரஜானாம்ʼ பரஹேதவே
प्रजानां व्यूहहेतवेப்ரஜானாம்ʼ வ்யூஹஹேதவே
प्रजापतीनां पतयेப்ரஜாபதீனாம்ʼ பதயே
प्रजापतिपतयेப்ரஜாபதிபதயே
प्रज्वालिकायां गिरिजासमेतायப்ரஜ்வாலிகாயாம்ʼ கி³ரிஜாஸமேதாய
पुञ्जिष्टेभ्यःபுஞ்ஜிஷ்டேப்⁴ய​:
पूज्यायபூஜ்யாய
प्रज्ञाप्रदायப்ரஜ்ஞாப்ரதா³ய
प्रज्ञानघनरूपिणेப்ரஜ்ஞான க⁴ன ரூபிணே
प्रज्ञारूपायப்ரஜ்ஞாரூபாய
प्रज्ञपूज्यायப்ரஜ்ஞபூஜ்யாய
प्राज्ञायப்ராஜ்ஞாய
पटवेபடவே
पट्टसिनेபட்டஸினே
पट्टसरूपधारिणेபட்டஸரூபதா⁴ரிணே
पीठत्रयस्वरूपिणेபீட²த்ரயஸ்வரூபிணே
पण्डिताय नमः – ३७८०பண்டி³தாய நம​: – 3780
पाण्ड्यसुन्दराय नमःபாண்ட்³ய ஸுந்த³ராய நம​:
पाण्डवेபாண்ட³வே
पाण्डुराख्यायபாண்டு³ராக்²யாய
पाण्डुराङ्गायபாண்டு³ராங்கா³ய
पुण्डरीकनिभेक्षणायபுண்ட³ரீக நிபே⁴க்ஷணாய
पुण्डरीकनयनायபுண்ட³ரீக நயனாய
प्रौढायப்ரௌடா⁴ய
पणविनेபணவினே
प्रणवस्वरूपायப்ரணவஸ்வரூபாய
प्रणवार्थायப்ரணவார்தா²ய
प्रणवादीमन्त्रजनकोर्ध्ववदनायப்ரணவாதீ³ மந்த்ர ஜன கோர்த்⁴வ வத³னாய
प्रणवाक्षरहृदयायப்ரணவாக்ஷர ஹ்ருʼத³யாய
प्रणवमन्त्रात्मनेப்ரணவ மந்த்ராத்மனே
प्रणवात्मकायப்ரணவாத்மகாய
प्रणवायப்ரணவாய
प्रणतार्तिघ्नायப்ரணதார்திக்⁴னாய
प्रणवप्रणवेशायப்ரணவப்ரணவேஶாய
प्रणतभक्तजनार्तिहरायப்ரணத ப⁴க்தஜனார்தி ஹராய
प्रणतार्तिहरायப்ரணதார்தி ஹராய
प्रणीतपञ्चार्थ प्रयोगपरमामृताय नमः – ३८००ப்ரணீத பஞ்சார்த² ப்ரயோக³ பரமாம்ருʼதாய நம​: – 3800


 Download

 
Post a Comment