Pages

Monday, April 21, 2014

ஶிவம் 3601_3640



नवमोहतमः पङ्कक्षालनाय नमःநவமோஹதம​: பங்க்ஷாலனாய நம​:
नवसिद्धसमाराध्यायநவ ஸித்³த⁴ ஸமாராத்⁴யாய
नवब्रम्हार्चितपदायநவ ப்³ரம்ஹார்சித பதா³ய
नवनागनिषेवितायநவனாக³னிஷேவிதாய
नवदुर्गार्चनप्रियायநவ து³ர்கா³ர்சன ப்ரியாய
नवसूत्रविधानविदेநவ ஸூத்ர விதா⁴னவிதே³
नवर्षिगणसेवितायநவர்ஷி க³ண ஸேவிதாய
नवचन्दनलिप्ताङ्गायநவ சந்த³ன லிப்தாங்கா³ய
नवचन्द्रकलाधरायநவ சந்த்³ரகலா த⁴ராய
नववस्त्रपरिधानायநவ வஸ்த்ர பரிதா⁴னாய
नवरत्नविभूषितायநவ ரத்ன விபூ⁴ஷிதாய
नवभस्मविदिग्धाङ्गायநவ ப⁴ஸ்ம விதி³க்³தா⁴ங்கா³ய
नवबन्धविमोचकायநவ ப³ந்த⁴ விமோசகாய
नवनीतप्रियाहारायநவனீத ப்ரியா ஹாராய
नव्यहव्याग्रभोजनायநவ்யஹவ்யாக்³ர போ⁴ஜனாய
नवफालमणयेநவ பா²லமணயே
नवायநவாய
नवात्मनेநவாத்மனே
नवात्मतत्वरूपायநவாத்ம தத்வரூபாய
नंवामबाहुकटितटाय नमः – ३६२०நம்ʼவாமபா³ஹு கடிதடாய நம​: – 3620
निवेदनायநிவேத³னாய
निवेष्ट्यायநிவேஷ்ட்யாய
निव्याधिनेநிவ்யாதி⁴னே
निवृत्तात्मनेநிவ்ருʼத்தாத்மனே
निवृत्तयेநிவ்ருʼத்தயே
निवृत्तिकलात्मकसर्वाङ्गायநிவ்ருʼத்தி கலாத்மக ஸர்வாங்கா³ய
नाशारूढायநாஶாரூடா⁴ய
निशाचरायநிஶாசராய
निशाचारिणेநிஶாசாரினே
निशाकरायநிஶாகராய
निशालयायநிஶாலயாய
निशाचारायநிஶாசாராய
निशाचरगणाकृतयेநிஶாசர க³ணா க்ருʼதயே
निश्चलायநிஶ்சலாய
निशुम्भघ्नायநிஶும்ப⁴க்⁴னாய
निश्वासागमलोचनायநிஶ்வாஸாக³ம லோசனாய
निःश्रेयसालयायநி​:ஶ்ரேயஸா லயாய
नष्टशोकायநஷ்டஶோகாய
निषंगिणेநிஷங்கி³ணே
निष्कलायापि सकलाय नमः – ३६४०நிஷ்கலாயாபி ஸகலாய நம​: – 3640

 
Post a Comment