Pages

Friday, April 4, 2014

ஶிவம் 3161_3200




धनुर्हस्ताय नमःத⁴னுர்ஹஸ்தாய நம​:
धनायத⁴னாய
धन्वन्तरयेத⁴ன்வந்தரயே
धनेश्वरायத⁴னேஶ்வராய
धन्मालाधरायத⁴ன்மாலாத⁴ராய
धनाकरायத⁴னாகராய
धनदप्रियायத⁴னத³ப்ரியாய
धनप्रियायத⁴னப்ரியாய
धनुर्धरायத⁴னுர்த⁴ராய
धनागमायத⁴னாக³மாய
धन्यायத⁴ன்யாய
ध्वनयेத்⁴வனயே
ध्यानगम्यायத்⁴யானக³ம்யாய
ध्यानरूपायத்⁴யானரூபாய
ध्यानायத்⁴யானாய
धीमतेதீ⁴மதே
धूम्रायதூ⁴ம்ராய
धूमकेतनायதூ⁴மகேதனாய
धूमकेतवेதூ⁴மகேதவே
धूमपाय नमः – ३१८०தூ⁴மபாய நம​: – 3180
धूम्रवर्णायதூ⁴ம்ரவர்ணாய
धूम्राक्षायதூ⁴ம்ராக்ஷாய
ध्यायतेத்⁴யாயதே
ध्येयायத்⁴யேயாய
ध्येयगम्यायத்⁴யேயக³ம்யாய
ध्येयध्यानायத்⁴யேய த்⁴யானாய
ध्येयानामपि धेयेयायத்⁴யேயானாமபி தே⁴யேயாய
ध्येयतमायத்⁴யேயதமாய
धर्मायத⁴ர்மாய
धर्मिष्ठायத⁴ர்மிஷ்டா²ய
धर्मयुक्तायத⁴ர்மயுக்தாய
धर्मचारिणेத⁴ர்மசாரிணே
धर्मसेतुपालकायத⁴ர்மஸேதுபாலகாய
धर्माधारायத⁴ர்மாதா⁴ராய
धर्मधाम्नेத⁴ர்மதா⁴ம்னே
धर्मराजायத⁴ர்மராஜாய
धरायத⁴ராய
धर्मपीठायத⁴ர்மபீடா²ய
धर्मार्थकामकैवल्य सूचकायத⁴ர்மார்த² காம கைவல்ய ஸூசகாய
धर्मवृक्षाय नमः – ३२००த⁴ர்ம வ்ருʼக்ஷாய நம​: – 3200


 Download
 
Post a Comment