Pages

Tuesday, April 8, 2014

ஶிவம் 3241_3280



धैर्यविभूषिताय नमःதை⁴ர்யவிபூ⁴ஷிதாய நம​:
धौरेयायதௌ⁴ரேயாய
धवलश्यामरक्तानां मुक्तिदायத⁴வல ஶ்யாம ரக்தானாம்ʼ முக்திதா³ய
ध्रुवायத்⁴ருவாய
ध्रुवबद्धानामृषीणाम् प्रभवेத்⁴ருவ ப³த்³தா⁴னாம்ருʼஷீணாம் ப்ரப⁴வே
ध्रुवनिषण्णानाम्रुषीणाम्पतयेத்⁴ருவனிஷண்ணானாம்ருஷீணாம் பதயே
ध्रुष्टयेத்⁴ருஷ்டயே
धृष्णवेத்⁴ருʼஷ்ணவே
धृष्टेश्वरायத்⁴ருʼஷ்டேஶ்வராய
ध्वस्तमनोभवाय नमः – ३२५०த்⁴வஸ்த மனோப⁴வாய நம​: – 3250
नकारस्य विनायको देवता | विघ्ननाशने विनियोगः |நகாரஸ்ய வினாயகோ தே³வதா | விக்⁴ன நாஶனே வினியோக³​: |
नकार रूपाय नमःநகார ரூபாய நம​:
नक्तायநக்தாய
नक्तंचरायநக்தஞ்சராய
नाकेशपूज्यायநாகேஶபூஜ்யாய
नैकस्मैநைகஸ்மை
नैकसानुचरायநைகஸானுசராய
नैकात्मनेநைகாத்மனே
नैककर्मकृतेநைககர்மக்ருʼதே
नैकशृङ्गायநைகஶ்ருʼங்கா³ய
नकच्छिन्नात्मभूशीर्षाय नमः – ३२६०நகச்சி²ன்னாத்மபூ⁴ஶீர்ஷாய நம​: – 3260
नखांशुचयनिर्धूततारेशायநகா²ம்ʼஶு சயனிர்தூ⁴ததாரேஶாய
निकिलागमसंसेव्यायநிகிலாக³ம ஸம்ʼஸேவ்யாய
नगरप्रियायநக³ரப்ரியாய
नागायநாகா³ய
नग्नायநக்³னாய
नग्नवेशधरायநக்³னவேஶ த⁴ராய
नग्नाव्रतधरायநக்³னாவ்ரத த⁴ராய
नग्नेन्द्रकन्यकापाङ्गवीक्षितायநக்³னேந்த்³ர கன்யகாபாங்க³ வீக்ஷிதாய
नगेन्द्रतनयासत्कायநகே³ந்த்³ர தனயா ஸத்காய
नगेन्द्रतनयाप्राणवल्लभायநகே³ந்த்³ர தனயா ப்ராண வல்லபா⁴ய
नगेन्द्रतनयप्रियायநகே³ந்த்³ர தனய ப்ரியாய
नगप्रवरमध्यस्थायநக³ப்ரவர மத்⁴யஸ்தா²ய
नागवाहनायநாக³வாஹனாய
नागनाथायநாக³ நாதா²ய
नागहारायநாக³ஹாராய
नागहस्तायநாக³ஹஸ்தாய
नागालन्कृतपादायநாகா³லன்க்ருʼத பாதா³ய
नागेश्वरायநாகே³ஶ்வராய
नागनारीवृतायநாக³நாரீ வ்ருʼதாய
नागाचूडाय नमः – ३२८०நாகா³சூடா³ய நம​: – 3280

 
Post a Comment