Pages

Friday, April 18, 2014

ஶிவம் 3561_3600




निर्मदाय नमःநிர்மதா³ய நம​:
निरानन्दायநிரானந்தா³ய
निर्मलस्फटिकाकृतयेநிர்மலஸ்ப²டிகாக்ருʼதயே
निर्विशेषायापि वियदिन्द्रचापवत्तेजोमयवपुषेநிர் விஶேஷாயாபி வியதி³ந்த்³ர சாபவத்தேஜோமய வபுஷே
निर्गुणायापि गुणत्रयात्मामाया शबलत्वाप्रकटनायநிர்கு³ணாயாபி கு³ணத்ரயாத்மாமாயா ஶப³லத்வா ப்ரகடனாய
निर्वृतिकारणायநிர்வ்ருʼதிகாரணாய
निरास्पदायापि स्वयं सर्वाधारायநிராஸ்பதா³யாபி ஸ்வயம்ʼ ஸர்வா தா⁴ராய
निर्मर्यादायநிர்மர்யாதா³ய
निरुद्योगायநிருத்³யோகா³ய
निरुपमायநிருபமாய
निर्भयायநிர்ப⁴யாய
निरपायायநிரபாயாய
निलिंपनायकायநிலிம்பநாயகாய
नीलजीमूतनिस्वनायநீலஜீமூதனிஸ்வனாய
नीलचिकुरायநீலசிகுராய
नीलरुचयेநீலருசயே
नीलकण्ठायநீலகண்டா²ய
नीललोहितायநீலலோஹிதாய
नीलकेशायநீலகேஶாய
नीलाय नमः – ३५८०நீலாய நம​: – 3580
नीलमौलये नमःநீலமௌலயே நம​:
नीलग्रीवायநீலக்³ரீவாய
नीलशिखण्डायநீலஶிக²ண்டா³ய
नीलगलायநீலக³லாய
नवशक्तिमतेநவஶக்திமதே
नवहाटकनिर्माणकिंकिणी दामशोभितायநவஹாடக நிர்மாண கிங்கிணீ தா³ம ஶோபி⁴தாய
नवनिधिप्रदायநவ நிதி⁴ப்ரதா³ய
नवग्रहस्वरूपिणेநவக்³ரஹஸ்வரூபிணே
नवग्रहार्चितपदायநவக்³ரஹார்சிதபதா³ய
नवरत्नगणोपेतक्रीटायநவரத்ன க³ணோபேத க்ரீடாய
नवरत्नगुणोपेत दिव्य नूपुरभूषितायநவரத்னகு³ணோபேத தி³வ்ய நூபுரபூ⁴ஷிதாய
नवचक्रमहापद्मसंस्थितायநவ சக்ர மஹா பத்³ம ஸம்ʼஸ்தி²தாய
नवस्थलस्थभक्तैकोपासितायநவ ஸ்த²லஸ்த² ப⁴க்தைகோபாஸிதாய
नवलिङ्गमयाकारशोभितायநவலிங்க³ மயாகார ஶோபி⁴தாய
नवकोटिगणाराध्यपादुकायநவகோடி க³ணாராத்⁴ய பாது³காய
नवनन्दीश्वरस्तोत्रपरीतायநவ நந்தீ³ஶ்வர ஸ்தோத்ர பரீதாய
नवनाथार्पितानन्दकटाक्षायநவ நாதா²ர்பிதானந்த³ கடாக்ஷாய
नवब्रह्मशिकोत्तंसविज्ञातायநவப்³ரஹ்ம ஶிகோத்தம்ʼஸ விஜ்ஞாதாய
नवनीतादिमृदुलमानसयाநவனீதாதி³ ம்ருʼது³ல மானஸயா
नवनारायणाश्रान्तैध्येयाय – ३६००நவ நாராயணா ஶ்ராந்தைத்⁴யேயாய – 3600


download 



Post a Comment