Pages

Wednesday, April 30, 2014

ஶிவம் 3881_3920



प्रेतचारिणे नमःப்ரேதசாரிணே நம​:
प्रेतात्मनेப்ரேதாத்மனே
प्रेतानांपुरहर्त्रेப்ரேதானாம்புரஹர்த்ரே
पथ्यायபத்²யாய
पथीनां पतयेபதீ²னாம்ʼ பதயே
प्रथमायப்ரத²மாய
पृथिव्यैப்ருʼதி²வ்யை
पृथिवीव्यापिनेப்ருʼதி²வீவ்யாபினே
पृथिव्यात्मनेப்ருʼதி²வ்யாத்மனே
पृथ्वीपतयेப்ருʼத்²வீபதயே
पृथ्वीरथायப்ருʼத்²வீரதா²ய
पृथ्व्यादितत्वप्रतिष्ठितायப்ருʼத்²வ்யாதி³ தத்வ ப்ரதிஷ்டி²தாய
पदक्षिणकराङ्गुलिकायபத³க்ஷிணகராங்கு³லிகாய
पद्मेश्वरायபத்³மேஶ்வராய
पद्मनिधयेபத்³ம நித⁴யே
पद्मिनीवल्लभप्रियायபத்³மினீ வல்லப⁴ ப்ரியாய
पद्मनाभायபத்³ம நாபா⁴ய
पद्मालयायபத்³மாலயாய
पद्मगर्भायபத்³ம க³ர்பா⁴ய
पद्मकिञ्जल्कसन्निभाय नमः – ३९००பத்³ம கிஞ்ஜல்க ஸன்னிபா⁴ய நம​: – 3900
पद्मप्रियाय नमःபத்³ம ப்ரியாய நம​:
पद्महस्तायபத்³ம ஹஸ்தாய
पद्मलोचनायபத்³ம லோசனாய
पद्मासनायபத்³மாஸனாய
पद्मार्थमालायபத்³மார்த² மாலாய
पद्मनालाग्रायபத்³மனாலாக்³ராய
पद्मपादायபத்³மபாதா³ய
पद्मायபத்³மாய
पद्मावतीप्रियायபத்³மாவதீ ப்ரியாய
पद्मपरायபத்³மபராய
पद्मवर्णायபத்³ம வர்ணாய
पद्मिनीपतिदंतालिदमनायபத்³மினீபதித³ந்தாலித³மனாய
पद्मासनरतायபத்³மாஸன ரதாய
पद्माभवक्त्रनेत्रायபத்³மாப⁴வக்த்ர நேத்ராய
प्रदीप्तविद्युत्कनकावभासायப்ரதீ³ப்த வித்³யுத் கனகாவபா⁴ஸாய
प्रदीपायப்ரதீ³பாய
प्रदीपविमलायப்ரதீ³ப விமலாய
प्रदक्षिणेப்ரத³க்ஷிணே
प्रदानात्मनेப்ரதா³னாத்மனே
पद्यगद्यविशारदाय नमः – ३९२०பத்³யக³த்³யவிஶாரதா³ய நம​: – 3920


Download




Post a Comment