Pages

Thursday, April 24, 2014

ஶிவம் 3721_3760



पञ्चार्धहेतवे नमःபஞ்சார்த⁴ ஹேதவே நம​:
पञ्चास्यरुद्ररूपायபஞ்சாஸ்ய ருத்³ர ரூபாய
पञ्चाशतकोटिमूर्तयेபஞ்சாஶத கோடி மூர்தயே
पञ्चमन्त्रस्वरूपिणेபஞ்ச மந்த்ர ஸ்வரூபிணே
पञ्चमायபஞ்சமாய
पञ्चास्यफणिहारायபஞ்சாஸ்யப²ணிஹாராய
पञ्चाक्षरमयायபஞ்சாக்ஷரமயாய
पञ्चाक्षरीदृशेபஞ்சாக்ஷரீத்³ருʼஶே
पञ्चार्थविज्ञानसुधास्रोतः स्वरूपिणेபஞ்சார்த² விஜ்ஞான ஸுதா⁴ ஸ்ரோத​: ஸ்வரூபிணே
पञ्चपादपपुष्प गान्धि पदाम्बुजद्वयशोभितायபஞ்சபாத³ப புஷ்ப கா³ந்தி⁴ பதா³ம்பு³ஜ த்³வய ஶோபி⁴தாய
पञ्चाननायபஞ்சானனாய
पञ्चमुखायபஞ்சமுகா²ய
पञ्च भूताधिपतयेபஞ்ச பூ⁴தாதி⁴பதயே
पञ्चास्रहरायபஞ்சாஸ்ர ஹராய
पञ्चपातकसंहरायபஞ்சபாதக ஸம்ʼஹராய
पञ्चाम्नाय स्वरूपिणेபஞ்சாம்னாய ஸ்வரூபிணே
पञ्चकोशस्वरूपायபஞ்ச கோஶ ஸ்வரூபாய
पञ्चभूताधिवासायபஞ்ச பூ⁴தாதி⁴ வாஸாய
पञ्चाक्षरनिवासिनेபஞ்சாக்ஷர நிவாஸினே
पञ्चप्राणाय नमः – ३७४०பஞ்ச ப்ராணாய நம​: – 3740
पञ्चब्रह्मस्वरूपिणे नमःபஞ்ச ப்³ரஹ்ம ஸ்வரூபிணே நம​:
पञ्चवक्त्रायபஞ்சவக்த்ராய
पञ्चमूर्धाभिसंयुक्तायபஞ்சமூர்தா⁴பி⁴ ஸம்ʼயுக்தாய
पञ्चवदनायபஞ்ச வத³னாய
प्राच्यायப்ராச்யாய
प्राचीनपुरुषायப்ராசீனபுருஷாய
प्राच्यात्मनेப்ராச்யாத்மனே
प्रचेतसेப்ரசேதஸே
प्रचुरदिव्याग्नेப்ரசுரதி³வ்யாக்³னே
प्रचुरदण्डहस्तायப்ரசுர த³ண்ட³ ஹஸ்தாய
प्राचीनानामपि गिरामगोचरायப்ராசீனானாமபி கி³ராம கோ³சராய
प्राचीनपुण्यपुरुषायப்ராசீன புண்ய புருஷாய
पाञ्चरात्राणां विष्णवेபாஞ்சராத்ராணாம்ʼ விஷ்ணவே
प्रच्छन्नायப்ரச்ச²ன்னாய
प्रच्छन्नस्फटिकप्रभायப்ரச்ச²ன்ன ஸ்ப²டிக ப்ரபா⁴ய
प्रच्छन्नरूपायப்ரச்ச²ன்ன ரூபாய
पुच्छिनेபுச்சி²னே
प्रजाध्यक्षायப்ரஜாத்⁴யக்ஷாய
प्रजापतयेப்ரஜாபதயே
प्रजाभवाय नमः – ३७६०ப்ரஜாப⁴வாய நம​: – 3760

 
Post a Comment