Pages

Wednesday, April 23, 2014

ஶிவம் 3681_3720




प्रकृतिकल्याणाय नमःப்ரக்ருʼதி கல்யாணாய நம​:
प्रकृतिसाधकायப்ரக்ருʼதிஸாத⁴காய
प्रकृतिदूराङ्घ्रयेப்ரக்ருʼதிதூ³ராங்க்⁴ரயே
प्रकृतिसुन्दरायப்ரக்ருʼதி ஸுந்த³ராய
प्रकृतिमनोहरायப்ரக்ருʼதி மனோஹராய
प्रकृन्तानां पतयेப்ரக்ருʼந்தானாம்ʼ பதயே
प्रक्खिदतेப்ரக்கி²த³தே
प्रगल्भायப்ரக³ல்பா⁴ய
प्राग्दक्षिणोदङ्मुखायப்ராக்³ த³க்ஷிணோத³ங் முகா²ய
पाँसव्यायபாம் ̐ஸவ்யாய
पिङ्गलजटायபிங்க³லஜடாய
पिङ्गलायபிங்க³லாய
पिङ्गलाक्षायபிங்க³லாக்ஷாய
पिङ्गकपर्दिनेபிங்க³ கபர்தி³னே
पुङ्गवकेतवेபுங்க³வ கேதவே
पञ्चब्रह्मात्मकसदालिङ्गायபஞ்ச ப்³ரஹ்மாத்மக ஸதா³ லிங்கா³ய
पञ्चब्रह्मात्मकवचायபஞ்ச ப்³ரஹ்மாத்ம கவசாய
पञ्चसादाख्यवदनायபஞ்ச ஸாதா³க்²ய வத³னாய
पञ्चकलात्मकसर्वाङ्गायபஞ்ச கலாத்மக ஸர்வாங்கா³ய
पञ्चमूर्त्यात्मने नमः- ३७००பஞ்ச மூர்த்யாத்மனே நம​:- 3700
पञ्चमूर्त्यात्मकवदनाय नमःபஞ்ச மூர்த்யாத்மக வத³னாய நம​:
पञ्चविंशतिमूर्ति प्रतिपादकोर्ध्व वदनायபஞ்ச விம்ʼஶதி மூர்தி ப்ரதிபாத³கோர்த்⁴வ வத³னாய
पञ्चविंशतिमूर्त्यात्मनेபஞ்சவிம்ʼஶதி மூர்த்யாத்மனே
पञ्चशक्त्युदितायபஞ்சஶக்த்யுதி³தாய
पञ्चभूषणायபஞ்சபூ⁴ஷணாய
पञ्चकप्रियायபஞ்சகப்ரியாய
पञ्चाक्षरायபஞ்சாக்ஷராய
पञ्चास्यायபஞ்சாஸ்யாய
पञ्चयज्ञायபஞ்சயஜ்ஞாய
पञ्चविंशतितत्वज्ञायபஞ்சவிம்ʼஶதி தத்வஜ்ஞாய
पञ्चब्रह्मसमुत्पत्तयेபஞ்சப்³ரஹ்ம ஸமுத்பத்தயே
पञ्चवक्त्रायபஞ்சவக்த்ராய
पञ्चशीर्षायபஞ்சஶீர்ஷாய
पञ्चयज्ञप्रभञ्जनायபஞ்ச யஜ்ஞ ப்ரப⁴ஞ்ஜனாய
पञ्चवर्णायபஞ்ச வர்ணாய
पञ्चदशचक्षुषेபஞ்சத³ஶ சக்ஷுஷே
पञ्चदशहस्तायபஞ்சத³ஶ ஹஸ்தாய
पञ्चतन्मात्ररूपायபஞ்ச தன்மாத்ர ரூபாய
पञ्चभूतात्मनेபஞ்ச பூ⁴தாத்மனே
पञ्चकर्मेद्रियात्मने नमः – ३७२०பஞ்ச கர்மேத்³ரியாத்மனே நம​: – 3720


download
 
Post a Comment