Pages

Tuesday, April 22, 2014

ஶிவம் 3641_3680



निष्कलङ्काय नमःநிஷ்கலங்காய நம​:
निष्कारणोदयायநிஷ்காரணோத³யாய
निष्क्रियायநிஷ்க்ரியாய
निष्कण्टकायநிஷ்கண்டகாய
निष्प्रपञ्चायநிஷ்ப்ரபஞ்சாய
निष्प्रपञ्चात्मनेநிஷ்ப்ரபஞ்சாத்மனே
निष्प्रभायநிஷ்ப்ரபா⁴ய
निष्टाशान्तिपारायणायநிஷ்டா ஶாந்தி பாராயணாய
नासालोकनतत्परायநாஸாலோகன தத்பராய
नासाग्रन्यस्तनिटिलनयनायநாஸாக்³ரன்ய ஸ்தனிடில நயனாய
नासापुटविभ्राजितमौक्तिकायநாஸாபுட விப்⁴ராஜித மௌக்திகாய
नासामणिविराजितायநாஸாமணி விராஜிதாய
निस्सङ्गायநிஸ்ஸங்கா³ய
निःस्पृहायநி​:ஸ்ப்ருʼஹாய
निःस्थूलरूपायநி​:ஸ்தூ²லரூபாய
निस्तुलौदार्यसौभाग्यप्रबलायநிஸ்துலௌதா³ர்ய ஸௌபா⁴க்³ய ப்ரப³லாய
निसर्गामलभूषणायநிஸர்கா³மல பூ⁴ஷணாய
निस्तुलायநிஸ்துலாய
निस्तरङ्ग समुद्राभायநிஸ்தரங்க³ ஸமுத்³ராபா⁴ய
नृसिंहसंहन्त्रे नमः – ३६६०ந்ருʼஸிம்ʼஹஸம்ʼஹந்த்ரே நம​: – 3660
नृसिंहचर्माम्बरधराय नमःந்ருʼஸிம்ʼஹ சர்மாம்ப³ர த⁴ராய நம​:
निहितायநிஹிதாய
निहन्त्रेநிஹந்த்ரே
नलिनीदललग्नांबुनिर्लेपायநலினீத³ல லக்³னாம்பு³னிர் லேபாய
नक्षत्रमालिनेநக்ஷத்ரமாலினே
नक्षत्रमालाभूषणायநக்ஷத்ரமாலா பூ⁴ஷணாய
नक्षत्रविग्रहमतयेநக்ஷத்ர விக்³ரஹ மதயே
नक्षत्राणां चन्द्रमसेநக்ஷத்ராணாம்ʼ சந்த்³ரமஸே
नक्षत्रनाथसहस्रभासुरायநக்ஷத்ர நாத² ஸஹஸ்ர பா⁴ஸுராய
नक्षत्रसाधकाय नमः- ३६७०நக்ஷத்ர ஸாத⁴காய நம​:- 3670
पकारस्य वायुर्देवता | पुष्ट्ययर्थे विनियोगः |பகாரஸ்ய வாயுர்தே³வதா | புஷ்ட்யயர்தே² வினியோக³​: |
पङ्कजासनपद्मलोचनपूजितान्घ्रिनिसरोरुहाय नमःபங்கஜாஸன பத்³மலோசன பூஜிதாங்க்⁴ரி ஸரோருஹாய நம​:
पङ्कजहारशोभितलिङ्गायபங்கஜஹார ஶோபி⁴த லிங்கா³ய
प्रकाशायப்ரகாஶாய
प्रकाशात्मनेப்ரகாஶாத்மனே
प्रकटायப்ரகடாய
प्रकृतिदक्षिणायப்ரக்ருʼதி த³க்ஷிணாய
प्रकृतेशायப்ரக்ருʼதேஶாய
प्रकृत्यैப்ரக்ருʼத்யை
प्रकृत्युपगूढरूपायப்ரக்ருʼத்யுபகூ³ட⁴ ரூபாய
प्रकृतीशाय नमः – ३६८०ப்ரக்ருʼதீஶாய நம​: – 3680

 
Post a Comment